रविवार, 6 सितंबर 2009

"कहां पाते हो"

अपने को कहां पाते हो,
अधेरे या उजाले में ।
तकदीर कहाँ जाती है,
समुन्दर के किनारे में।।1।।
अपने को पता नही,
हम कहाँ जाते है ।
तकदीर कैसे बनती है,
ये हमे पता नही ।।2।।

जब हमें पता चलता है,
हम दुर निकल जाते है।
अपने तकदीर पर ,
रोते रह जाते है ।।३।।

1 टिप्पणी:

  1. कुश जी बहुत बहुत स्वागत है आपका सुन्दर रचना है बस लिखते जायें शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं